प्रधानमंत्री ने स्वामी आत्मस्थानंद के निधन को बताया व्यक्तिगत क्षति

 नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामकृष्ण मठ व मिशन के अध्यक्ष स्वामी आत्मस्थानंद जी महाराज के निधन पर शोक जताया है। स्वामी का रविवार की शाम को रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान अस्पताल में निधन हो गया। वह 99 वर्ष के थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि स्वामी आत्मस्थानंद जी का निधन मेरे लिए व्यक्तिगत नुकसान है। मैं अपने जीवन के महत्वपूर्ण समय में उनके साथ रहा था। उन्होंने कहा कि स्वामी आत्मस्थानंद जी को विशाल ज्ञान और आशीर्वाद प्राप्त था। पीढ़ियां उनके अनुकरणीय व्यक्तित्व को याद करेंगी। जब भी मैं कोलकाता का दौरा करूँगा, मैं हमेशा स्वामी आत्मस्थानंद जी का आशीर्वाद चाहूंगा।

उल्लेखनीय है कि स्वामी आत्मस्थानंद जी महाराज 3 दिसंबर, 2007 को रामकिशन मठ एवं रामकिशन मिशन के 15 वें अध्यक्ष निर्वाचित हुए थे। राजकोट में रहने के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे मुलाकात की थी तथा उनसे योगी बनने की इच्छा जतायी थी, लेकिन आत्मस्थानंद महाराज ने उनके प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। उसके बाद मोदी राजनीति में आये। प्रधानमंत्री कोलकाता प्रवास के समय आत्मस्थानंद महाराज से मिलने बेलूर मठ जाया करते थे।