बारिश की आस लगाए शहर को मौसम ने दी राहत


बारिश की आस लगाए शहर को मौसम ने दी राहत

नगरसंवाददाता, मुरैना
पिछले कई दिनों से भीषण गर्मी से परेशान आमजन बारिश की आस में आसमान पर टकटकी लगाए हुए थे। शनिवार की दोपहर आसमानी बारिश ने लोगों को राहत दी। बारिश को देख भीषण गर्मी से बेहाल लोगों के चेहरे खुशी से खिलउठे। शनिवार को दिन में जोरदार बारिश हुई जो आधा घंटे तक चली।
गुरूवार से आसमान में बादल छाए हुए थे और शुक्रवार की सुबह भी बादल छाए रहे, किंतु शुक्रवार की दोपहर को भीषण गर्मी के बाद शनिवार को सुबह से मौसम साफ था और तेज धूप दोपहर तक लोगों को परेशान करती रही, इसके बाद अचानक मौसम बदला और सूर्यदेव लुकाछिपी करने लगे तथा इसके साथ ही हवाओं के साथ रिमझिम बारिश आरंभ हो गई।
 धूप खिलने के साथ बारिश होने के कारण जमीन से गर्मी का गुबार निकलकर लोगों के लिये मुसीबत बन गया। जमीन से निकली गर्मी ने वातावरण को उमस में तब्दील कर दिया, जिससे लोग बेहाल नजर आये और इस उमस भरी गर्मी में वातानुकूलित माहौल में पहुंचने लगे। जिन लोगों के पास एयर कण्डीशनर की व्यवस्था नही थी वह उमस भरी गर्मी से कराहते नजर आये।
दोपहर के अंत में हुई थोडी बारिश के बाद कुछ देर बारिश थमी तो आधा घंटे बाद पुन: शुरू हो गई और धूप के साथ फिर भी बारिश होती रही। अब जब तक ठीक तरह से मानसून नही आयेगा तब तक इस उमस भरी गर्मी से राहत मिल पाना मुश्किल है।

नगरसंवाददाता, मुरैना
पिछले कई दिनों से भीषण गर्मी से परेशान आमजन बारिश की आस में आसमान पर टकटकी लगाए हुए थे। शनिवार की दोपहर आसमानी बारिश ने लोगों को राहत दी। बारिश को देख भीषण गर्मी से बेहाल लोगों के चेहरे खुशी से खिलउठे। शनिवार को दिन में जोरदार बारिश हुई जो आधा घंटे तक चली।
गुरूवार से आसमान में बादल छाए हुए थे और शुक्रवार की सुबह भी बादल छाए रहे, किंतु शुक्रवार की दोपहर को भीषण गर्मी के बाद शनिवार को सुबह से मौसम साफ था और तेज धूप दोपहर तक लोगों को परेशान करती रही, इसके बाद अचानक मौसम बदला और सूर्यदेव लुकाछिपी करने लगे तथा इसके साथ ही हवाओं के साथ रिमझिम बारिश आरंभ हो गई।
 धूप खिलने के साथ बारिश होने के कारण जमीन से गर्मी का गुबार निकलकर लोगों के लिये मुसीबत बन गया। जमीन से निकली गर्मी ने वातावरण को उमस में तब्दील कर दिया, जिससे लोग बेहाल नजर आये और इस उमस भरी गर्मी में वातानुकूलित माहौल में पहुंचने लगे। जिन लोगों के पास एयर कण्डीशनर की व्यवस्था नही थी वह उमस भरी गर्मी से कराहते नजर आये।
दोपहर के अंत में हुई थोडी बारिश के बाद कुछ देर बारिश थमी तो आधा घंटे बाद पुन: शुरू हो गई और धूप के साथ फिर भी बारिश होती रही। अब जब तक ठीक तरह से मानसून नही आयेगा तब तक इस उमस भरी गर्मी से राहत मिल पाना मुश्किल है।